भोपाल

60 बर्ष से अधिक की उम्र वाले नागरिकों के लिए अच्छी खबर, मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना में 10 नई ट्रेन और चलेंगी – मंत्री सुश्री ठाकुर

भोपाल डेस्क :

संस्कृति, पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री सुश्री उषा ठाकुर ने बताया है कि प्रदेश के श्रवण कुमार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की महत्वकांक्षी “मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना” की 10 नई ट्रेन और चलाई जाएंगी। नर्मदापुरम से अयोध्या-वाराणसी-काशी, खंडवा से द्वारिका-सोमनाथ और नीमच से वाराणसी-अयोध्या की ट्रेन 25 सितंबर को जायेगी। उमरिया से रामेश्वरम और छतरपुर से जगन्नाथपुरी की ट्रेन 26 सितंबर को तीर्थ-यात्रियों को लेकर जायेगी। साथ ही शिवपुरी से कामाख्या, मुरैना से रामेश्वरम, बैतूल से अयोध्या-वाराणसी, डॉ. अंबेडकर नगर महू से तिरूपति और बालाघाट से जगन्नाथपुरी की तीर्थ-दर्शन ट्रेन 6 अक्टूबर को रवाना होगी।

नर्मदापुरम से अयोध्या-वाराणसी-काशी ट्रेन में नर्मदापुरम, भोपाल और सागर के तीर्थ-यात्री, खंडवा से द्वारिका-सोमनाथ ट्रेन में खंडवा, खरगोन, झाबुआ और अलीराजपुर के तीर्थ-यात्री, नीमच से अयोध्या-वाराणसी ट्रेन में नीमच, मंदसौर और रतलाम के तीर्थ-यात्री, उमरिया से रामेश्वरम ट्रेन में उमरिया, शहडोल और अनूपपुर के तीर्थ-यात्री, छतरपुर से जगन्नाथ पुरी की ट्रेन में छतरपुर, टीकमगढ़, निवाड़ी और विदिशा के तीर्थ-यात्री शामिल होंगे। वहीं 6 अक्टूबर से चलने वाली शिवपुरी से कामाख्या की ट्रेन में शिवपुरी, श्योपुर, गुना और अशोकनगर के तीर्थ-यात्री, मुरैना से रामेश्वरम ट्रेन में मुरैना, ग्वालियर और दतिया के तीर्थ-यात्री, बैतूल से अयोध्या-वाराणसी-काशी ट्रेन में बैतूल, विदिशा और सीहोर के तीर्थ-यात्री, डॉ. अंबेडकर नगर महू से तिरूपति ट्रेन में इंदौर, धार और उज्जैन के तीर्थ-यात्री एवं बालाघाट से जगन्नाथपुरी ट्रेन में बालाघाट, मंडला, जबलपुर और डिंडोरी के तीर्थ-यात्री शामिल होंगे। 

मंत्री सुश्री ठाकुर ने बताया कि प्रदेश के 60 वर्ष के पुरुष और 58 वर्ष की महिला या उससे अधिक आयु के नागरिक जो आयकर दाता नहीं है, इस योजना में तीर्थ-दर्शन कर सकते हैं। आवेदन संबंधित जिले में निकटतम तहसील, स्थानीय निकाय, जनपद कार्यालय या कलेक्ट्रेट द्वारा निर्धारित अन्य विज्ञप्ति स्थानों पर जमा किए जा सकेंगे। यात्रियों का चयन संबंधित जिले के कलेक्टर द्वारा किया जाएगा। यात्रा के दौरान यात्रियों को भोजन, नाश्ता, चाय, रूकने की व्यवस्था, तीर्थ दर्शन तक बसों से जाने, वापस ट्रेन में लाने और गाइड की व्यवस्था आईआरसीटीसी करेगा। 

तीर्थ-यात्रियों को तुलसी माला और स्मृति चिन्ह दिए जाएंगे। तीर्थ यात्रियों के लिए भजन मंडली की व्यवस्था और भजन संध्या का आयोजन भी किया जाएगा। यात्रियों से अपेक्षा है कि वे मौसम के अनुरूप वस्त्र, ऊनी वस्त्र, व्यक्तिगत उपयोग की सामग्री, कंबल, चादर, तौलिया, साबुन, कंघा, दाढ़ी बनाने का सामान आदि साथ में रखें। तीर्थ-यात्री अपने साथ ओरिजिनल आधार कार्ड, वोटर कार्ड और कोविड वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट की छाया प्रति भी अनिवार्य रूप से रखें। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!