भोपाल

पीएम नरेंद्र मोदी का एमपी दौरा: अपने जन्म दिन 17 सितम्बर को दक्षिण अफ्रीका से आ रहे चीतों का कूनो राष्ट्रीय उद्यान में प्रवेश कराएंगे। विभिन्न कार्यक्रमों में करेंगे शिरकत

भोपाल डेस्क :

आज मंत्रि-परिषद की बैठक से पहले मंत्रीगण को जानकारी दी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अपने जन्म-दिवस 17 सितंबर को कूनो आएंगे। प्रधानमंत्री द्वारा दक्षिण अफ्रीका से आ रहे चीतों का कूनो राष्ट्रीय उद्यान में प्रवेश कराया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी कराहल (श्योपुर) में महिला स्व-सहायता समूह के सम्मेलन को संबोधित भी करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता समर में डॉ. हेडगेवार के योगदान पर बालाघाट के रामपायली में स्मारक स्थापित किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि यह ग्राम उनकी कर्म भूमि रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासनिक और मानवीय दृष्टि से बहुत जरूरी स्थानांतरण के लिए 17 सितंबर से 5 अक्टूबर तक छूट दी जाएगी।

शत प्रतिशत पात्र हितग्राहियों को योजनाओं का मिले लाभ

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि शत-प्रतिशत पात्र व्यक्तियों को हितग्राही मूलक योजनाओं का लाभ सुनिश्चित कराने के लिए 17 सितंबर से अभियान आरंभ होगा। साथ ही 2-2 मंत्रियों के समूह गठित किए जाएंगे, जो आवंटित जिलों का भ्रमण करेंगे। वे जिले में विकास कार्यों की गुणवत्ता, पात्र व्यक्तियों को हितग्राही मूलक योजनाओं के लाभ की उपलब्धता की स्थिति का जायजा लेंगे। मंत्रीगण गरीब बस्तियों में भ्रमण और संपर्क कर वहाँ की स्थिति देखेंगे। साथ ही वे बुद्धिजीवियों से भी चर्चा करेंगे। जन-सामान्य को जागरूक करने, योजनाओं की जानकारी देने के साथ योजनाओं के क्रियान्वयन और शासकीय गतिविधियों में कमी या दोष पाए जाने पर आवश्यक कार्यवाही भी मंत्रीगण द्वारा जिलों में की जाएगी।

चार मंत्री समूह करेंगे मॉनिटरिंग

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इसके साथ ही 4 मंत्री समूह गठित किए जाएंगे। पहला समूह हितग्राही मूलक योजनाओं का लाभ शत-प्रतिशत पात्र व्यक्तियों को उपलब्ध कराने की गतिविधियों की मॉनिटरिंग करेगा। समूह में मंत्री नरोत्तम मिश्रा, मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, मंत्री विश्वास सारंग, मंत्री कमल पटेल, मंत्री बिसाहूलाल सिंह, मंत्री राम खेलावन पटेल, मंत्री अरविंद भदौरिया और राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह शामिल होंगे।

दूसरा समूह मध्यप्रदेश स्थापना दिवस के आयोजन की रूपरेखा तैयार कर उसका क्रियान्वयन करेगा। एक सप्ताह चलने वाला यह आयोजन प्रदेशवासियों का आनंद का प्रकटीकरण होगा। समूह में मंत्री भूपेंद्र सिंह, मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, मंत्री सुश्री ऊषा ठाकुर, मंत्री सुश्री मीना सिंह, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) इंदर सिंह परमार, मंत्री राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव और मंत्री हरदीप सिंह डंग होंगे।तीसरा समूह जिलों के भ्रमण एवं संचालित गतिविधियों के संबंध में कार्य-योजना और आवश्यक समन्वय करेगा। समूह में मंत्री गोपाल भार्गव, मंत्री तुलसी सिलावट, मंत्री गोविंद सिंह राजपूत, मंत्री जगदीश देवड़ा और मंत्री विजय शाह शामिल होंगे।चौथा समूह प्रधानमंत्री मोदी के जन्म-दिवस 17 सितंबर से आरंभ सेवा पखवाड़े में संचालित की जाने वाली गतिविधियों पर केन्द्रित होगा। समूह में मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव, मंत्री महेंद्र सिंह, मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर, मंत्री डॉ. मोहन यादव तथा मंत्री ओमप्रकाश सखलेचा होंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बालाघाट के रामपायली में भारतीय स्वतंत्रता समर में डॉ. हेडगेवार के योगदान को चित्रित किया जाएगा। रामपायली में डॉ. हेडगेवार के स्मारक के संदर्भ में जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि उनका सबसे पहला उल्लेख 22 जून 1897 का मिलता है। डॉ. हेडगेवार की आयु जब लगभग 8-9 वर्ष थी, तब रानी विक्टोरिया की ताजपोशी की 60वीं वर्षगाँठ पर नागपुर में हुए आयोजन में बालक हेडगेवार वहाँ मिली मिठाई फेंक कर घर लौट आए थे। बालक केशव ने स्कूल में वंदे-मातरम का गायन कर अंग्रेजों के सर्कुलर का उल्लंघन कर विरोध किया था।डॉ. हेडगेवार वर्ष 1910 में डॉक्टरी की पढ़ाई के दौरान कोलकाता में देश की प्रमुख क्रांतिकारी संस्था अनुशीलन समिति से जुड़े। नागपुर लौटने पर वे वर्ष 1915 में कांग्रेस में सक्रिय हो गए और कुछ समय में विदर्भ प्रांतीय कांग्रेस के सचिव बने। वर्ष 1920 में जब नागपुर में कांग्रेस का अधिवेशन हुआ तो डॉ. हेडगेवार ने पूर्ण स्वतंत्रता को लक्ष्य बनाने का प्रस्ताव रखा, जो पारित नहीं किया गया। डॉ. हेडगेवार वर्ष 1916 में लोकमान्य तिलक से प्रभावित हुए और भारतीय स्वतंत्रता के लिए काम करने लगे। डॉ. हेडगेवार का नाता रामपायली से बाल्यावस्था से रहा है और यह ग्राम हेडगेवार की कर्मभूमि रही है। डॉ. हेडगेवार कलकत्ता (वर्तमान कोलकता) से एमबीबीएस करने के बाद वर्ष 1914 और आरएसएस की स्थापना वर्ष 1925 के पहले रामपायली में रह कर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की विभिन्न गतिविधियों को संचालित करते रहे। डॉ. हेडगेवार ने रामपायली में स्वातंत्र्य समर के लिए अपनी पहली सभा दशहरे के दिन की थी। डॉ. हेडगेवार ने रामपायली में रह कर ही जंगल सत्याग्रह सहित अनेक क्रांतिकारी गतिविधियों की रचना की और यहीं से उसका क्रियान्वयन किया। डॉ. हेडगेवार अंग्रेज सरकार के खिलाफ उग्र भाषण देने लगे, अंग्रेज सरकार ने उन पर मामला दर्ज किया और उनको एक वर्ष की सश्रम कारावास की सजा दी गई। डॉ. हेडगेवार 12 जुलाई 1922 को कारागार से मुक्त हुए। उन्होंने वर्ष 1925 में संघ की स्थापना कर दी थी। वर्ष 1930 में नमक आंदोलन के दौरान भी वे जेल गए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!