मध्यप्रदेश

एमपी दौरा पर पहुंचे गृह मंत्री अमित शाह ने कौरवों से की विपक्ष की तुलना: भोपाल में बोले- एक तरफ भाजपा देशभक्तों की टोली, दूसरी ओर परिवारवादी पार्टियों का गठबंधन खड़ा

न्यूज़ डेस्क :

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्षी गठबंधन की तुलना कौरवों से की है। उन्होंने कहा कि एक तरफ भाजपा देशभक्तों की टोली जैसी और दूसरी ओर परिवारवादी पार्टियों का गठबंधन खड़ा है। देश को इन दोनों ताकतों के बीच पसंदगी करनी है। शाह ने राहुल गांधी को लेकर कहा कि ये ऐसा रॉकेट है जो लॉन्च ही नहीं होता।

शाह भोपाल के कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में वृहद प्रबुद्धजन सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। यहां उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की उपलब्धियां गिनाईं। शाह ने कहा- हमारे देश का लोकतंत्र चार नासूर जातिवाद, परिवारवाद, तुष्टिकरण और भ्रष्टाचार के बीच फंसा रहा। मोदी जी ने 10 साल के अंदर ही इन चारों नासूरों को नष्ट कर पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस की स्थापना की।

बता दें कि अमित शाह रविवार को मध्यप्रदेश दौरे पर रहे। सबसे पहले वे ग्वालियर पहुंचे जहां उन्होंने ग्वालियर-चंबल क्लस्टर प्रबंध समिति के साथ बैठक की। इसके बाद खजुराहो में बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित किया। फिर भोपाल में प्रबुद्धजन सम्मेलन को संबोधित किया।

भोपाल में अमित शाह के भाषण की खास बातें…

मोदी ने पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस की स्थापना की: हमारे देश का लोकतंत्र ये चार नासूर के बीच में बंटा रहा। जातिवाद, परिवारवाद, तुष्टिकरण और भ्रष्टाचार। मोदी जी ने 10 साल के अंदर इन नासूरों को नष्ट कर पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस की स्थापना की।

एक तरफ भाजपा, दूसरी ओर परिवारवादी गठबंधन: आज दो खेमे खड़े हैं, जैसे महाभारत के युद्ध में दो खेमे खड़े थे, एक ओर पांडवों का खेमा था और दूसरी ओर कौरवों का। एक और मोदी जी के नेतृत्व में भाजपा देश भक्तों की टोली जैसी पार्टी खड़ी है। और दूसरी ओर सात परिवारवादी पार्टियों का गठबंधन खड़ा है।

घमंडिया गठबंधन को अपने बेटे-बेटियों की चिंता: शाह बोले- कौन है इंडी गठबंधन? जो नहीं चाहते कि गरीब का चाय बेचने वाला बेटा प्रधानमंत्री बने। घमंडिया गठबंधन की सातों पार्टियों के नेताओं को अपने बेटे, बेटियों की चिंता है। किसी को भी देश की चिंता नहीं है।

राहुल गांधी ऐसा रॉकेट जो लॉन्च ही नहीं होता: मैं सिर्फ 20 साल की बात करता हूं। ये 20 साल में हर बार नए लुक के साथ राहुल गांधी को लॉन्च करते, लेकिन ये ऐसा रॉकेट है कि लॉन्च होता ही नहीं, हर बार वापस आ जाता है। वही रॉकेट को लेकर फिर से निकले है।

देश को तीसरे नंबर की अर्थव्यवस्था बनाएंगे: 10 साल में मोदी सरकार पर भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं है। मोदी जी देश की अर्थव्यवस्था 5वें नंबर पर लाए। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि मोदी जी की गारंटी है। तीसरा जनादेश दे दीजिए। देश तीसरे नंबर की अर्थव्यवस्था बन जाएगा।

पूर्व सीएम शिवराज सिंह के लिए लगाई कुर्सी

अमित शाह के मंच पर आनन फानन में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए कुर्सी लगाई गई। इससे पहले मंच पर 5 कुर्सी लगी थी। अमित शाह के साथ बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, सीएम डॉ. मोहन यादव, दोनों डिप्टी सीएम जगदीश देवड़ा, राजेंद्र शुक्ला के लिए कुर्सियां लगवाई गई थीं। अमित शाह के आने के पहले ही शिवराज सिंह चौहान, नरोत्तम मिश्रा, कैलाश विजयवर्गीय नीचे बाएं तरफ बैठ गए। लेकिन मंच पर शाह के आने के ठीक पहले एक कुर्सी लगवाई गई जिस पर शिवराज सिंह चौहान बैठे।

खजुराहो में बूथ कार्यकर्ताओं को दिए जीत के मंत्र

इससे पहले उन्होंने खजुराहो के बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन में हर बूथ पर कमल खिलाने का संकल्प दिलाया। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि इस बार लोकसभा चुनाव में 400 पार सीटें जीतना है। ये काम बूथ कार्यकर्ताओं के बगैर नहीं हो सकता। इसलिए मोदी जी के दिए लक्ष्य में जुट जाइए।

अमित शाह ने अयोध्या में राम मंदिर बनने से लेकर जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने और गरीबों को मुफ्त राशन वितरण तक मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाई। साथ ही कांग्रेस को भी जमकर निशाने पर लिया।

बता दें कि केंद्रीय गृहमंत्री शाह रविवार को मध्यप्रदेश के दौरे पर हैं। सुबह उन्होंने ग्वालियर में BJP कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की। फिर खजुराहो पहुंचे। शाम को भोपाल में वृहद प्रबुद्धजन सम्मेलन में शिरकत की।

​​​​​​खजुराहो में अमित शाह के भाषण की खास बातें…

ये 400 से ज्यादा सीटें जीतने के संकल्प का सम्मेलन: खजुराहो में बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि ये सम्मेलन विजय का संकल्प लेने का है। ये सम्मेलन 400 से ज्यादा सीटों के साथ सरकार बनाने के संकल्प का सम्मेलन है।

400 पार का लक्ष्य बूथ कार्यकर्ताओं के बगैर संभव नहीं: शाह ने कहा- एमपी में 2019 में एक सीट बच गई थी। 24 में सभी 29 सीटें देकर मोदी जी की झोली भर दीजिए। इस बार मोदी जी ने हमें 400 पार का लक्ष्य दिया है। ये काम बूथ के कार्यकर्ताओं के बगैर हो ही नहीं सकता।

विजय की भूख मंद मत करिए, इस बार सभी बूथ जीतना है: अमित शाह ने कहा कि अभी प्रदेश अध्यक्ष बता रहे थे कि पिछली बार 156 बूथों पर जीत नहीं मिली। विजय की भूख को मंद मत करिए। इस बार सभी बूथ पर कमल खिलाने का संकल्प लेकर जाना है।

500 साल बाद रामलला अपने भव्य मंदिर में विराजित हुए हैं: हमने हर वादा पूरा किया। हमने कहा था अयोध्या में राम मंदिर बनाएंगे। राहुल बाबा मेरा मजाक उड़ाता था। मंदिर वहीं बनाएंगे, तारीख नहीं बताएंगे। राहुल बाबा 22 जनवरी 2024 को रामलला 500 साल के बाद भव्य मंदिर में विराजे हैं।

कांग्रेस मतलब भ्रष्टाचार, भ्रष्टाचार मतलब कांग्रेस पार्टी: कांग्रेस ने हमेशा सनातन धर्म का अपमान किया। भारतीय संस्कृति को अपमानित करने का काम किया। कांग्रेस इस देश की राजनीति के अंदर भ्रष्टाचार की पर्याय बन गई। कांग्रेस मतलब भ्रष्टाचार, भ्रष्टाचार मतलब कांग्रेस पार्टी।

ग्वालियर में बोले- कांग्रेस से आने वाले नेताओं का करें स्वागत

इससे पहले ग्वालियर के होटल आदित्याज में शाह ने ग्वालियर और चंबल क्लस्टर प्रबंध समिति के साथ बैठक की। शाह ने कार्यकर्ताओं से कहा- मुझे मध्यप्रदेश की सभी 29 लोकसभा सीटें भाजपा के लिए चाहिए। हर बूथ पर 370 वोट बढ़ाना है, इसके बाद प्रचंड जीत हमारी होगी।

शाह ने कहा, ‘कांग्रेस में जिन कार्यकर्ताओं की इज्जत नहीं हो रही है, वे भाजपा में आना चाहते हैं तो उनका स्वागत किया जाए।’

विधानसभा अध्यक्ष नरेंद्र तोमर वापस लौटे

शाह के साथ मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भी ग्वालियर आए। मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष नरेंद्र तोमर होटल आदित्याज तक शाह के साथ आए, इसके बाद वापस चले गए।

4 लोकसभा सीट के 400 नेता-कार्यकर्ता शामिल रहे

बैठक में ग्वालियर, मुरैना, भिंड, गुना-शिवपुरी लोकसभा क्षेत्रों के मंत्री, प्रबंध समिति, कोर समिति, सांसद, विधायक, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, कलस्टर प्रभारी, संगठन प्रभारी, जिलाध्यक्ष, जिला प्रभारी शामिल रहे। इन चारों लोकसभा क्षेत्रों से 100-100 पदाधिकारी और कार्यकर्ता भी पहुंचे। गृहमंत्री ने सभी 400 लोगों से संवाद किया।

केंद्रीय गृहमंत्री ग्वालियर में डेढ़ घंटे रहे। इस दौरान शहर हाई सिक्योरिटी जोन में तब्दील कर दिया गया। 1500 जवान और अफसर सुरक्षा की कमान संभाले रहे।

हर बूथ पर वोट बढ़ाने पर चर्चा

ग्वालियर में शाह ने कार्यकर्ताओं को एक-एक बूथ पर वोट बढ़ाने के लिए मंत्र दिया। बताया कि किस तरह काम कर वोट प्रतिशत बढ़ा सकते हैं? बैठक में कार्य समिति, प्रबंध समिति के प्रभारी और क्लस्टर प्रभारियों को जिम्मेदारी भी सौंपी गई। केंद्रीय गृहमंत्री ने पदाधिकारियों से जिला, विधानसभा और लोकसभा स्तर पर जनता से कनेक्टिविटी के संबंध में भी सवाल पूछे।

शाह के दौरे से यह पड़ेगा असर

ग्वालियर-चंबल कलस्टर की ग्वालियर, भिंड, मुरैना और गुना-शिवपुरी लोकसभा सीट पर साल 2019 में भाजपा ने जीत दर्ज की थी। हाल में हुए साल 2023 के विधानसभा चुनाव में इन चार लोकसभा की 34 विधानसभा सीट में से 16 कांग्रेस और 18 भाजपा के पास हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में श्योपुर में भाजपा को कम वोट मिले थे। माना जा रहा है कि शाह के दौरे से वहां स्थिति बदल सकती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!