विदिशा

बाढ़ के बाद की भयानक तबाही का मंजर देखने को मिला कच्चे मकान भी धराशाई, सर्वे कार्य प्रारंभ

आनंदपुर डेस्क :

आनंदपुर सहित क्षेत्र में तीन-चार दिन हुई लगातार बारिश और बाढ़ से बाढ़ के बाद अब तबाही का मंजर देखने को मिल रहा है ऐसा कोई भी गांव नहीं बचा जहां पर कच्चे मकानों की क्षति ना हुई हो सिंध नदी और कई नवीन नदी ने इस कदर तबाही मचाई है कि ग्रामीण जनों का जीना भी दुश्वार हो गया है कई ग्रामीण जन तो इस स्थिति में पहुंच गए हैं कि आज उनके पास रहने के लिए एक सुरक्षित आशियाना भी नहीं बचा है।

सिंध नदी ने वामनखेड़ी, ललचिया,रुसल्ली,लोधाखेड़ी, रघुनाथपुर, ऊलाखेड़ी, काछीखेड़ा, परवरिया,सतपाड़ा,जाजमखेड़ी,  मुबारकपुर टांडा चक्क को चारों ओर से घेर लिया,इन गांवों के चारों ओर नदी फेल गई,जिसमे परवरिया,मुबारकपुर को छोड़कर बाकि गाँव के लोंगों तक पहुंचने के सभी मार्ग बन्द हो गए,रात से सुबह तक हुई तेज बारिश से सिंध नदी के रौद्र रूप से इन गांवों के लोगों की जान घरों में अटक कर रह गई। वामनखेड़ी सरपँच प्रतिनिधि अरविंद बघेल ने बताया की सिंध नदी का यह रूप पहली बार देखा है मेरी पँचायत के वामनखेड़ी,रुसल्ली,रघुनाथपुर, जाजमखेड़ी गाँव के चारों तरफ नदी फेल गई थी, यहां की बाल उतरने के बाद जितनी भी नदी किनारे गांव थे उनमें अधिक से अधिक नुकसान हुआ है और कच्चे घर क्षतिग्रस्त होकर गिर चुके हैं।

कांदई नदी ने शाहपुर,धरनावदा,सदगुरु नगर,लालाटोरा,कोलापुर आदि गाँवो में अपना रौद्र रूप दिखाया, शाहपुर के उप सरपंच अशोक विश्वकर्मा ने कहा की गाँव के चारों ओर नदी आ गई थी,निकलने का कोई रास्ता नहीं था,घरों के छतों से लगकर बह रही थी,अगर बारिश कम नहीं और कच्चे घरों में पानी भरा गया जिसके चलते यह घर धराशाई हो गए और कई ग्रामीण तो ऐसी स्थिति में आ गए कि ना तो वह खाना बनाने की स्थिति में है और ना ही उनके पास रहने को जगह बची।
हालांकि जैसे ही बाढ़ का पानी उत्तरा राहत और बचाव कार्य प्रारंभ कर दिए हैं क्षेत्र में लटेरी एसडीएम विजेंद्र रावत लगातार निरीक्षण कर पटवारियों को निर्देशित कर रहे हैं कि सही तरीके से सर्वे कार्य किया जाए और जो व्यक्ति पीड़ित है उन्हें लाख मिलना ही चाहिए इस बीच आनंदपुर हल्का नंबर के पटवारी घनश्याम अहिरवार 2 दिन से ग्रामीण क्षेत्रों में जा जाकर सर्वे कर रहे हैं जिन व्यक्तियों के घर गिर गए या थोड़ी बहुत भी नुकसान हुआ है।

उनका नाम पता और स्थिति को देखकर जो सही स्थिति है उसी को दर्शा रहे हैं। अकेले आनंदपुर में ही 50 से अधिक कच्चे मकानों को नुकसान हुआ है जिसमें श्याम लाल अहिरवार पिता भगवती लाल अहिरवार परवरिया रोड आनंदपुर का मकान बारिश और बाढ़ के चलते आधी रात को भरभरा कर जमींदोज हो गया शुक्र है कि जिस वक्त जिस ओर से मकान गिरा उस ओर कोई नहीं था बल्कि दूसरे कच्चे घर में थे जैसे ही मकान गिरने की आवाज आई वह उठकर तुरंत बच्चों को लेकर बाहर आ गए और देखा तो चंद मिनटों में ही सारा मकान भरभरा कर गिर गया। सर्वे कार्य पूरा होने के पश्चात तहसील में यह रिपोर्ट सौंपी जाएगी और तत्पश्चात ही शासन द्वारा जो भी स्थिति होगी उसी के हिसाब से मुआवजा दिया जाएगा।
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जिला पंचायत सदस्य 18 पार्वती रघुवंशी के पति गगनेंद्र रघुवंशी भी क्षेत्र में जा जाकर व्यक्तियों के नुकसान का जायजा ले रहे हैं और और लोगों को धीरज बनाते हुए सहयोग कर रहे हैं और शासन से सही तरीके से सर्वे कर मुआवजा दिलाने की बात कही है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!