विदिशा

जिले में 1 से 19 आयुवर्ग के 5 लाख 63 हजार 978 बच्चे हैं जिन्हें कृमिनाशक गोली खिलाए जाने का लक्ष्य।सांसद रमाकांत भार्गव ने जिला मुख्यालय पर अभियान को शुरू किया

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर आयोजित हुए कार्यक्रम

विदिशा डेस्क :

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के अवसर पर आज मंगलवार को जिले में विभिन्न जगह एक साथ कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था जिसमें अतिथियों व अधिकारियों के द्वारा एक से 19 आयुवर्ग तक के बच्चों को कृमि मुक्ति हेतु ऐल्बेंडाजॉल की गोली अपने हाथों से खिलाई है।
जिला मुख्यालय पर उक्त कार्यक्रम शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में आयोजित किया गया था जिसमें विदिशा सांसद रमाकांत भार्गव ने अभियान की शुरूआत करते हुए उत्कृष्ट विद्यालय की छात्रा रितिका को तथा पूर्व नपाध्यक्ष मुकेश टण्डन ने पलक नामदेव और पायल धाकड़ को कृमिनाशक दवा खिलाई। आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सांसद रमाकांत भार्गव ने कहा कि शरीर के अंदर कृमि नहीं होना चाहिए कृमि होने से शारीरिक और मानसिक दोनों विकास प्रभावित होते हैं। सरकार द्वारा स्कूलों में भी बच्चों को कृमिनाशक दवा खिलाने की पहल की गई है। निश्चित ही यह अच्छी बात है कि कोई भी विद्यार्थी शारीरिक और बौद्धिक रूप से कमजोर ना रहे।


कार्यक्रम को संबांधित करते हुए पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश टण्डन ने कहा कि स्वास्थ्य के प्रति अब हम सब जागरूक हो रहे हैं। जहां पहले बच्चों के पेट में कृमि हो जाते थे और पता नहीं चलता था। धीरे-धीरे वह बड़ा रूप ले लेते थे जिससे शारीरिक विकास स्पष्ट रूप से प्रभावित होता ही था। अब सरकार के द्वारा इस अभियान के माध्यम से आने वाली पीढ़ी को कृमि से मुक्त रखने के लिए जो गोली खिलाई जा रही है उसका सेवन अवश्य करें। कोई भी बच्चा छूट ना पाए यह हम सबका नैतिक दायित्व है। इस कार्य में उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों से आव्हान किया कि वे आगे आकर बच्चों को अभिप्रेरित करें ताकि वे कृमिनाशक दवा खाने किसी भी प्रकार से हिचकें ना। कार्यक्रम को विदिशा जनपद पंचायत अध्यक्ष वीरसिंह रघुवंशी, राकेश शर्मा ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर ग्यारसपुर जनपद पंचायत के अध्यक्ष बृजेश लोधी, के अलावा विदिशा विधायक प्रतिनिधि अशोक रघुवंशी समेत अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एके उपाध्याय ने इस दौरान बताया कि जिले में एक से 19 आयुवर्ग के कुल 5 लाख 63 हजार 978 बच्चे हैं जिन्हें कृमिनाशक गोली खिलाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। कुल बच्चों में एक से पांच आयुवर्ग के 134066 तथा छह से 19 आयुवर्ग के 429912 शामिल हैं। जिले के सभी शासकीय व प्रायवेट स्कूलों के साथ-साथ समस्त आंगनबाड़ी 2371 आंगनबाड़ी केन्द्रों के साथ-साथ सभी स्कूलों में स्वास्थ्य अमले के माध्यम से बच्चों को कृमिनाशक गोली एल्बेंडाजॉल खिलाई जा रही है।


सीएमएचओ डॉ उपाध्याय ने बताया कि यह कार्यक्रम पूरे जिले के समस्त नर्सरी से लेकर कक्षा 12 तक के सभी शासकीय एवं निजी स्कूलों सभी आंगनबाड़ी केंद्रों में 1 वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चे को एल्बेंडाजोल की खुराक आज दी जा रही हैं। इसके लिए ग्राम स्तर से शहर स्तर तक सभी स्कूल आंगनबाड़ियों में टीमों का गठन किया गया है। साथ ही जो बच्चे आज गोली खाने से वंचित रह जाएंगे। उन्हें 16 तारीख को माप अप डे के रूप में गोली खिलाई जाएगी। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ डीके शर्मा द्वारा गोली के फायदे जिससे कि बच्चों में किडनी से होने वाली हानि जैसे खून की कमी कुपोषण, मंदबुद्धि, शारीरिक एवं मानसिक विकास प्रभावित होना आदि के संबंध में विस्तार से बताया एवं इसके फैलने के कारण और बचाव के उपाय विस्तार से समझाया।
उत्कृष्ट विद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित जनप्रतिनिधियों के अलावा चिकित्सकों, गणमान्य नागरिकों तथा शैक्षणिक संस्था के गुरूजनों के द्वारा भी अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को कृमिनाशक गोली अपने हाथों से खिलाई गई है। कार्यक्रम में मंच का संचालन संचालन विजय श्रीवास्तव द्वारा किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!