भोपालमध्यप्रदेश

कोविड-19 बाल सेवा योजना” के हितग्राही बच्चों से आज मुख्यमंत्री वीसी के माध्यम से संवाद करेंगें।

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान रक्षा-बंधन के पर्व पर आज 12 अगस्त को “मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना” के हितग्राही बच्चों से सीधा संवाद करेंगे। कार्यक्रम में भोपाल की बाल देख-रेख संस्थाओं के भी बच्चों को आमंत्रित किया गया है। मुख्यमंत्री निवास पर प्रात: 11 बजे होने वाले इस कार्यक्रम में प्रदेश के विभिन्न जिलों से लगभग 250 बच्चे शामिल होंगे। बच्चों द्वारा मुख्यमंत्री को रक्षा सूत्र बांधे जायेंगें और विभिन्न प्रस्तुति भी दी जाएगी। मुख्यमंत्री आमंत्रित बच्चों को उपहार वितरित भी करेंगे। 

संचालक महिला-बाल विकास डॉ. राम राव भोंसले ने बताया कि जो बच्चे इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पायेंगें, उनसे मुख्यमंत्री वीसी के माध्यम से संवाद करेंगें। कार्यक्रम का सीधा प्रसारण दूरदर्शन सहित क्षेत्रीय चैनल एवं सोशल मीडिया से किया जाएगा।

प्रदेश में कोविड के कारण अनाथ हुए बच्चों की सहायता के लिये शुरू की गई मुख्यमंत्री कोविड बाल सेवा योजना के 1399 हितग्राहियों को प्रति माह 5 हजार रुपये की आर्थिक सहायता, निःशुल्क खाद्यान्न वितरण और शिक्षा सम्बन्धी सहायता प्रदान की जा रही है।  प्रदेश में ऐसे बच्चे जिनके माता या पिता में से किसी एक की मृत्यु कोविड के दौरान हुई है और परिवार विषम आर्थिक परिस्थिति में है, को स्पॉन्सरशिप तथा फोस्टर केयर योजना में 2 हजार रुपये प्रतिमाह प्रति बच्चे के मान से लाभ दिया जा रहा है।  प्रदेश में शासकीय स्पॉन्सरशिप तथा फोस्टर केयर अंतर्गत 2040 बच्चों को लाभान्वित किया जा रहा है। शासकीय  स्पॉन्सरशिप के अतिरिक्त निजी स्पॉन्सरशिप में औद्योगिक इकाइयों, समाजसेवी संगठनों, व्यापारियों और गणमान्य नागरिकों द्वारा 5647 बच्चों को स्पांसर किया गया है, जो देश में अपनी तरह की अभिनव पहल है। 

प्रदेश में ऐसे बच्चे जो किसी भी कारण से अनाथ हो गए हैं और अपने सम्बन्धियों या संरक्षकों के साथ जीवन-यापन कर रहे हैं, को सहायता प्रदान करने तथा बाल देख-रेख संस्थाओं को छोड़ने वाले 18 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों को आर्थिक एवं शैक्षणिक सहयोग देकर समाज में पुनर्स्थापित करने हेतु नवीन “मुख्यमंत्री बाल आशीर्वाद योजना” भी प्रारम्भ की जा रही है, जिसमें न केवल समुदाय के अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता, वरन् बाल देख-रेख संस्थाओं से निर्मुक्त होने वाले 18 वर्ष से  अधिक के बच्चों को आफ्टर केयर अंतर्गत व्यावसायिक प्रशिक्षण, इंटर्नशिप एवं कोचिंग में सहायता के लिये 5 हजार रुपये प्रतिमाह की सहायता भी दी जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!