भोपाल

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने नरेंद्र मोदी की तुलना हिटलरशाह और सद्दाम से की: कांतिलाल भूरिया ने कहा- हर जगह मोदी ही दिखते हैं, किसी मंत्री को आगे नहीं आने देते

भोपाल डेस्क :

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना हिटलर और सद्दाम हुसैन से की है। उन्होंने कहा- ‘यह लोकतंत्र है। लोकतंत्र में कोई किसी के दबाव में नहीं चलता। यहां तो बीजेपी लोकतंत्र को खत्म करने में लगी है। उनका बस चले, तो नरेंद्र मोदी लोकतंत्र को खत्म करके हिटलर शाह और सद्दाम हुसैन बन जाएंगे। वह पूरे देशों में जाते हैं। सब चैनलों पर प्रधानमंत्री दिखते हैं, लेकिन किसी दूसरे मंत्री का नाम सुना क्या? किसी मंत्री को आगे नहीं आने देते। केवल बस मोदी दिखना चाहिए। भूरिया बुधवार को भोपाल में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में आदिवासी विकास परिषद के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

मोदी की दाढ़ी कटती है, तो महंगाई कम हो जाती है

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने महंगाई के मुद्दे पर बोलते हुए कहा- मोदी की दाढ़ी बढ़ती जा रही, महंगाई बढ़ती जा रही है। बीच में दाढ़ी कटवा लेते हैं, तो महंगाई थोड़ी कम हो जाती है। माफिया और कालाबाजारी करने वालों को यह दाढ़ी संकेत देती है कि कमाओ, जाने दो… ये मोदी के हाल हैं, इसलिए मोदी को भी उखाड़ कर फेंकना है। मध्य प्रदेश के माफिया को भी उखाड़ कर फेंकना है। आप मन बना कर जाइए। अपने-अपने जिले में संगठन को मजबूत करिए। आदिवासियों को एकजुट करें।

आदिवासियों के साथ हो रहे अत्याचार का विरोध करो

भूरिया ने कहा कि अगर आदिवासियों के साथ अत्याचार हो रहा है, तो थाना घेरो। अगर किसी महिला के साथ अत्याचार हो रहा है, तो थाने में जाओ, कलेक्टर के पास जाओ। बेचारा कोई दुखी जाता है, तो उसे बाहर से ही भगा देते हैं। आदिवासी विकास परिषद वहां झंडा लेकर खड़ा हो जाए। इनके साथ अत्याचार हो रहा है। अगर कोई नहीं सुनता है, तो हमें फोन करो। हम उस जिले में आएंगे। 10- 20 हजार लोग इकट्‌ठा करके कलेक्टर का नाश्ता पानी, खाना पीना बंद कर देंगे।

दिग्विजय बोले- आरएसएस ने संविधान जलाया

कार्यक्रम में पूर्व सीएम दिग्विजय ने कहा कि मप्र में जब तक अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति का समर्थन कांग्रेस को नहीं मिलेगा, सरकार कांग्रेस नहीं बनने वाली। दोनों समुदाय मिलकर 40 प्रतिशत होते हैं। जब-जब कांग्रेस पार्टी को एससी, एसटी का समर्थन मिला है। कांग्रेस की सरकार बनी है, क्योंकि कांग्रेस पार्टी की नीतियां इन लोगों के लिए हैं। बाबा साहब अंबेडकर ने संविधान में अधिकार एसटी, एससी को दिया। इसका विरोध राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने किया। संविधान जलाया।

भाजपा ने आज तक एसटी, एससी के लिए नीति नहीं बनाई। केवल बाबा साहब की मूर्ति पर माला चढ़ाने के अलावा, आजादी की लड़ाई लड़ने वाले टंट्या मामा, भगवान बिरसा मुंडा की मूर्तियों पर माला चढ़ाने के अलावा कोई नीति नहीं बनाई। एससी, एसटी को जो पट्‌टे कांग्रेस की सरकार में बंटे थे, उन्हें निरस्त कर दिया या स्टे कर दिया। भाजपा के लोगों ने उन पर कब्जा कर लिया।

एसटी, एसटी के वोट काटने में लगी भाजपा

दिग्विजय ने कहा कि मूल रूप से भाजपा केवल लोगों को लड़वाकर अपना फायदा देखना चाहती है। कैसे एसटी, एसटी के वोट काटो, बिना वोट काटे भाजपा की सरकार नहीं बनने वाली। अगर एसटी, एससी के लोग एकजुट होकर अपनी लड़ाई लड़ने लग गए, तो प्रदेश में भाजपा की सरकार बन ही नहीं सकती। बहुजन समाज पार्टी, गोंडवाना गणतंत्र परिषद से इनके वोट काटे जाएं। भाजपा इसी उधेड़बुन में लगी है। भाजपा के पास पैसे की कमी नहीं हैं। हजारों करोड़ रुपए भ्रष्टाचार करके कमाए हैं। भाजपा महाकाल मंदिर के अंदर भ्रष्टाचार करने से भी नहीं चूकी।

पूर्व मंत्री उमंग बोले- कांग्रेस में रहकर आदिवासियों को रोकने वालों को पहचानो

कार्यक्रम में पूर्व मंत्री उमंग सिंघार ने कहा कि ट्राइबल काउंसिल आदिवासियों की बनती है, लेकिन वह सिर्फ नाम है। इस बार जो ट्राइबल काउंसिल बने, उसको अधिकार मिलें, ताकि वह काम कर सके। मैं तो कहता हूं कि प्रदेश में सरकार आए, तो छठवीं अनुसूची क्यों नहीं लागू करते? कलेक्टर के भरोसे आदिवासी क्यों काम करें? आदिवासी के माध्यम से उस जिले, उस गांव का काम होना चाहिए। इसके लिए ट्राइबल काउंसिल, छठी अनुसूची होना चाहिए। उमंग ने कहा कि आप को समझना पड़ेगा कि ऐसे कौन लोग हैं, जो कांग्रेस में रहकर आदिवासियों को रोक रहे हैं। उस पर भी विचार करना चाहिए।

बिना नाम लिए राजा-महाराजा पर साधा निशाना
उमंग ने कहा- अगर कांग्रेस के साथ सम्मान मिलेगा, तो आपको पिछली बार 30 सीटें मिली थी। इस बार 47 सीटें मिलेंगी। आदिवासियों को सम्मान देना पड़ेगा। आदिवासियों के वोट तो मिल जाते हैं। आदिवासियों के नाम पर सरकार बन जाती है, भाजपा की सरकार इसलिए नहीं बनी, क्योंकि आदिवासियों ने कांग्रेस को वोट दिया था। आदिवासी विकास परिषद पूरी ताकत लगाना चाहेगी, लेकिन इनका सम्मान बना रहे। हम कहते हैं कि मुझे पीछे बिठाओ, लेकिन जो आम कार्यकर्ता है, आदिवासी की बात करता है, उसे आगे बढ़ाओ। उमंग ने कहा- ‘इतिहास बनाते हैं आदिवासी.. कहानियां तो राजा महाराजाओं की लिखी जाती हैं.. हम तो आदिवासी हैं, हमारा इतिहास लिखा जाता है।’

उलगुलान अभियान चलाएगी कांग्रेस

आदिवासियों को साधने के लिए कांग्रेस उलगुलान अभियान चलाएगी। इसके तहत आदिवासी बहुल क्षेत्रों में सामाजिक संगठनों का विचार सम्मेलन किया जाएगा। ये आयोजन मध्यप्रदेश आदिवासी विकास परिषद करेगा। इसका उद्देश्य सभी अनुसूचित जनजाति वर्ग को एक साथ लाना है। सभी जिले की परिषद इकाई अपने क्षेत्र में विधानसभा वार उलगुलान कार्यक्रम करेंगी।

इन विषयों को लेकर जाएगी कांग्रेस

  • पेसा कानून
  • आरक्षण पर चर्चा रोजगार गारंटी
  • शिक्षा पर चर्चा
  • जननायक व महापुरुषों की जीवन गाथा का वर्णन -स्थानीय जन समस्या
  • वन अधिकार
  • वोट का अधिकार
  • स्वास्थ्य
  • सामाजिक एकता अखंडता पर चर्चा राजनैतिक सोच निर्मित करना
  • जल जंगल जमीन 5वीं अनुसूची एवं 6वीं अनुसूची

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!