विदिशा

दिव्यांगजनों का सहयोग हमारी जिम्मेदारी: जन चेतना मंच

3 बर्ष से लगातार दिव्यांग प्रमाण पत्र बनवा रहा हैं संगठन

विदिशा डेस्क :
संसार में दिव्यांग ईश्वर की अनुपम उपहार हैं। यह हमारा धर्म ही नहीं बल्कि नैतिक कर्तव्य भी है की उनको असहाय न छोड़े और हरसंभव सहयोग करें। क्योंकि धर्मग्रंथों में भी असहाय व्यक्तियों की सेवा का स्थान सर्वोत्तम माना गया है। यह बात सामाजिक संगठन जन चेतना मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष राधारमण मीना ने कहीं। उनके अनुसार नर सेवा ही नारायण सेवा है और इसको ही लक्ष्य बनाकर संगठन निरंतर मानवीय कार्य करता है। इसी श्रंखला में संगठन जिले के करैयाहाट कोरवाइ मोहनखेडी सहित करीब एक दर्जन गांवों से विभिन्न श्रेणी के दिव्यांगजन को निजी वाहन से प्रमाणपत्र व ट्रेन टिकिट फ्री यूनिक कार्ड बनवाने जिला चिकित्सालय विदिशा लेकर आया है।

संगठन के तहसील मीडिया प्रभारी रवि कुशवाह ने कहा की संगठन इससे पूर्व में भी शासन अथवा प्रशासन से किसी भी तरह का सहयोग लिए विना 25बार सैंकड़ों दिव्यांग्जन को विदिशा लाकर दिव्यांग प्रमाण पत्र और ट्रेन कार्ड बनवा चुका है। संगठन इनको सिर्फ प्रमाण पत्र बनवाने का कार्य ही नहीं करता बल्कि शासकीय योजनाओं से जोड़ने का भी भरसक प्रयास करता है। जिला ही नहीं अपितु प्रदेशभर में सभी श्रेणी की निजी बसों में आधा किराया कम करवाने का श्रेय भी संगठन को प्राप्त है। चूंकि वर्ष 2016 से प्रदेश की सभी बसों में दिव्यांगजन को पचास फीसदी किराया की छूट है किंतु धरातल पर दिव्यांगो को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा था।

जिसको लेकर संगठन ने विगत वर्ष राज्य परिवहन विभाग से लेकर समस्त जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन देकर बस संचालकों पर कार्यवाही करने को कहा। और जिसके परिणामस्वरूप वर्तमान में सभी दिव्यांग शासन की उपरोक्त नियम का लाभ उठा पा रहे हैं। इसके अतिरिक्त शासन प्रशासन के सहयोग से विदिशा जिला की समस्त विकासखंडों में दिव्यांग शिविरों में सहयोग कर सैंकड़ों दिव्यांगों को प्रमाण पत्र बनवाने सहित अन्य प्रमुख योजनाओं से लाभान्वित करा चुका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!