भोपाल

बाईस महीनों में किसानों को मिली पौने 2 लाख करोड़ रूपए की राशि

मध्यप्रदेश सरकार किसानों की सरकार : मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सिंगल क्लिक से 202 करोड़ की राहत राशि अंतरित की
किसानों से किया वर्चुअल संवाद
निवाड़ी जिले के किसान की सामाजिक भूमिका की सराहना की
सर्वे कार्य जल्दी करने के लिए राजस्व और प्रशासनिक अमले को दी बधाई

भोपाल :

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि राज्य सरकार किसान हितैषी सरकार है। संकट की स्थिति में सरकार किसानों के साथ खड़ी है, चाहे प्राकृतिक आपदा हो या बाढ़ जैसे संकट। किसानों की फसलों को हुए नुकसान के बाद आवश्यक राहत देने में कभी देर नहीं की गई। आज भी गत जनवरी माह में ओलावृष्टि से प्रदेश के 26 जिलों में किसानों की फसलों को हुई क्षति के लिए 202 करोड़ 90 लाख रूपए की राशि एक लाख 46 हजार 101 किसानों के खाते में अंतरित की गई है। बीते लगभग दो वर्ष में किसान सम्मान निधि, शून्य प्रतिशत ब्याज पर ऋण और अन्य सभी किसान-कल्याण योजनाओं में कुल पौने 2 लाख करोड़ रूपए किसानों को दिये गये हैं। मुख्यमंत्री आज मुख्यमंत्री निवास से किसानों को राहत राशि अंतरित करने के बाद वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा संबोधित कर रहे थे। प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं राजस्व विभाग मनीष रस्तोगी और राजस्व सचिव डॉ. संजय गोयल भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गत माह ओलावृष्टि से हुई फसल क्षति के बाद राजस्व विभाग, जिला प्रशासन और अन्य विभागों के सहयोग से समय-सीमा में सर्वे कार्य हुआ। ग्रामों में प्रभावित किसानों की सूची तैयार कर सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित की गई। प्रत्येक प्रभावित किसान को राहत राशि देने की व्यवस्था की गई। इन सब कार्यों के लिए सभी संबंधित अधिकारी-कर्मचारी, जन-प्रतिनिधि, किसान भाई-बहन और समाजसेवी बधाई के पात्र हैं। मध्यप्रदेश सरकार किसान के सुख-दुख में सदैव साथ रहेगी। किसानों सहित सभी वर्गों को आवश्यकता पर जरूरी मदद देकर उनका हौसला बढ़ाना सरकार का दायित्व है। इसमें कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी जाएगी।

एक हजार से अधिक ग्रामों में हुई थी ओलावृष्टि

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश के 1074 ग्रामों में ओलावृष्टि से और असामयिक वर्षा से एक लाख 34 हजार 19 हेक्टेयर क्षेत्र में फसलों को क्षति हुई थी। प्रभावित जिलों में रायसेन, राजगढ़, विदिशा, भिण्ड, ग्वालियर, अशोकनगर, शिवपुरी, दतिया, गुना, धार, झाबुआ, बालाघाट, छिंदवाड़ा, मण्डला, सिवनी, बैतूल, हरदा, सतना, सागर, टीकमगढ़, निवाड़ी, उज्जैन, मंदसौर, नीमच, रतलाम और खण्डवा शामिल हैं। जिलेवार राहत राशि प्रभावितों को देने का कार्य प्राथमिकता से किया गया।

 मुख्यमंत्री ने किया संत रविदास जी के श्लोक का उल्लेख

मुख्यमंत्री ने कहा कि संत रविदास जी की जयंती हमने कल मनाई है। उनके श्लोक स्मरण हम करते हैं, जिसमें उन्होंने कहा है – “ऐसा चाहूँ राज मैं, जहाँ मिले सबन को अन्न, छोट बड़ों सब सम बसे, रविदास रहे सदा प्रसन्न।” मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ऐसा राज्य होना चाहिए, जिसमें हर मनुष्य को भोजन उपलब्ध हो। बिना भेदभाव के सबको अन्न मिल जाए, इस दिशा में राज्य सरकार सबको लाभान्वित करते हुए कार्य कर रही है। प्रदेश में लगभग 5 करोड़ परिवारों को अनाज वितरण भी किया जा रहा है।

ओले धरती पर नहीं मानो सीने पर गिरे हों

मुख्यमंत्री ने कहा कि जब असमय वर्षा और ओलावृष्टि हुई, तब यही अनुभूति हुई थी कि ओले धरती पर या खेतों पर नहीं गिरे मानो उनके सीने पर गिरे हों। ऐसी घटनाएँ विचलित करती हैं। किसानों को राहत देने के लिए तत्काल प्रभावित क्षेत्रों में जाकर क्षति का जायजा लेने और सर्वे का कार्य किया गया। सर्वे कार्य भी ईमानदारी से हुआ। किसान भी इस प्रक्रिया से संतुष्ट रहे। गत सप्ताह खरीफ 2020 और रबी 2021 के लिए 45 लाख से अधिक किसानों के खातों में बीमा राशि का भुगतान भी कर दिया गया है। फसल बीमा दावा के भुगतान की कुल 7 हजार 669 करोड़ राशि में से अब तक 5 हजार 660 करोड़ रूपए की राशि का भुगतान किया जा चुका है। आज भुगतान की गई राशि एक हजार 665 करोड़ है। शेष 844 करोड़ रूपए की राशि का भुगतान भी आगामी दो दिन में किया जा रहा है। किसानों को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। किसानों के हित के लिए इसी तत्परता से कार्य होंगे।

अन्नदाता को कोरोना काल में भी मिली भरपूर राहत

मुख्यमंत्री ने कहा कि करीब दो वर्ष पूर्व कोरोना का आगमन हुआ था। पहली और दूसरी लहर में किसानों के माथे से चिंता की लकीर मिटाते हुए राज्य सरकार ने गेहूँ और धान का रिकार्ड उपार्जन कर किसानों को राशि का भुगतान किया। पहली लहर में विपरीत परिस्थितियों के बाद भी एक करोड़ 29 लाख 42 हजार मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन किया गया। दूसरी लहर में संक्रमण की रोकथाम के उपायों के साथ पुन: एक करोड़ 28 लाख 15 हजार मीट्रिक टन गेहूँ के साथ ही 45 लाख 85 हजार मीट्रिक टन धान का उपार्जन हुआ। प्रदेश के 17 लाख 16 हजार किसानों से गेहूँ और 6 लाख 61 हजार किसानों से धान खरीदा गया। किसानों को उपार्जित अनाज की राशि का भुगतान प्राथमिकता से किया गया। कोरोना काल में समय पर राशि का भुगतान हो जाने से किसानों को प्रत्यक्ष रूप से राहत मिली।संकट में किसानों के साथ है सरकार – राजस्व मंत्रीराजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने किसानों को राशि अंतरण पर वर्चुअली भागीदारी करते हुए कहा कि राज्य सरकार किसान हितैषी सरकार है। संकट में किसानों के दुख और परेशानी को दूर करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है। मुख्यमंत्री ने ओलावृष्टि और असामयिक वर्षा से फसल क्षति होने के संकट को तत्काल अपने संज्ञान में लेकर फसलों का सर्वे कराया। मुख्यमंत्री चौहान ने ओला प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर किसानों से चर्चा की। आज किसानों के लिए खुशी की घड़ी है कि उन्हें क्षतिग्रस्त फसलों की राहत राशि मिलने जा रही है। उन्होंने कहा कि इसके पहले मुख्यमंत्री ने बैतूल में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में 7 हजार 618 करोड़ रूपए की राशि प्रदेश के किसानों को एक क्लिक से उपलब्ध कराई थी। अब किसानों के चेहरे पर खुशी की रौनक है। मुख्यमंत्री किसानों के सम्मान और खुशी के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।मंत्री राजपूत ने कहा कि मुख्यमंत्री ने किसानों के दुख को समझा। उनके संकट की स्थिति का तुरंत निराकरण किया है। वे स्वयं ओलावृष्टि के पश्चात प्रभावित क्षेत्रों में जाकर किसानों से मिले। बहुत कम अवधि में किसानों को राहत राशि मिल गई है। यह किसानों के लिए सुखद आश्चर्य का विषय है। मुख्यमंत्री किसानों के चेहरे पर रौनक देखना चाहते हैं।हितग्राहियों से बातचीत मुख्यमंत्री ने असामयिक वर्षा एवं ओलावृष्टि से फसल क्षति होने पर राहत राशि प्राप्त कर रहे 4 जिलों के हितग्राही किसानों से संवाद किया। उन्होंने गुना जिले की गोविंदपुरा ग्राम पंचायत के किसान फूल सिंह, सागर की सरोजरानी चड़ार, शिवपुरी के राजकुमार जाटव एवं निवाड़ी के मधुसूदन रिछारिया से संवाद किया। सभी हितग्राहियों से फसलों के सर्वे के संबंध में जानकारी ली। सभी हितग्राहियों ने फसलों के सर्वे पर संतुष्टि की बात कही। मुख्यमंत्री ने अन्य योजनाओं के लाभ मिलने की जानकारी भी ली। इस पर हितग्राही किसानों ने कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री सम्मान निधि के साथ मुख्यमंत्री सम्मान निधि, नि:शुल्क राशन, कपिलधारा कूप, उज्जवला योजना, सिंचाई के लिए स्प्रिंकलर खरीदने पर अनुदान आदि का लाभ मिला है। मुख्यमंत्री ने कहा कि फसल क्षति की राहत राशि के अलावा फसल बीमा का लाभ भी दिलवाया जाएगा। जन-प्रतिनिधियों ने भी सर्वे कार्य की प्रशंसा कर संतुष्टि व्यक्त की।

जब मधुसूदन ने व्यक्त किए दिल के उद्गार

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 14 जनवरी 2022 को निवाड़ी जिले की पृथ्वीपुर तहसील के ग्राम खिस्टोन जाकर ओला प्रभावित किसानों से भेंट की थी। इन्हीं किसानों में से एक मधुसूदन ने आज मुख्यमंत्री को दिल के उद्गार व्यक्त करते हुए बताया कि – “ग्राम में फसलों की क्षति के सर्वे कार्य से सभी संतुष्ट हुए हैं। कुछ ऐसे किसान भी हैं जिनकी फसल पूरी तरह नष्ट हो गई थी। खेती के अलावा इनकी जीविका का कोई साधन नहीं है। ऐसे किसानों को मदद मिल जाने से उनकी परेशानियाँ कम हुई हैं।” मधुसूदन ने यह भी बताया कि – “स्थानीय प्रशासन और जन-प्रतिनिधियों ने भी किसानों के हित में पूरा सहयोग किया है।” मुख्यमंत्री द्वारा यह पूछे जाने पर कि आप कृषि के अलावा अन्य क्या कार्य करते हैं, मधुसूदन ने बताया कि – गाँव के बुजुर्गों को वृद्धावस्था पेंशन दिलवाने, किसानों को लाभकारी स्प्रिंकलर सिंचाई का उपयोग करने और सम्मान निधि जैसी योजनाओं का लाभ लेने के लिए प्रेरित करते हैं। मुख्यमंत्री ने मधुसूदन की समाजसेवी की भूमिका को सराहनीय बताया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!