भोपाल

महाविद्यालय करेंगे विद्यार्थियों द्वारा पोर्टल पर चयनित पाठ्यक्रमों के अध्यापन की व्यवस्था

भोपाल :-

प्रदेश में उच्च शिक्षा संस्थानों में विद्यार्थियों द्वारा चयन किए गए किसी भी पाठ्यक्रम की अध्यापन व्यवस्था महाविद्यालय में सुनिश्चित की जाएगी। इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा निर्देश जारी किए गए हैं। इसके अनुसार प्रदेश के समस्त महाविद्यालय स्थानीय आवश्यकताओं और रोजगार में उपलब्ध अवसरों को देखते हुए विभाग के पोर्टल पर प्रदर्शित 25 व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में से न्यूनतम 2 पाठ्यक्रम का चयन कर उनके सुगम संचालन की व्यवस्था को सुनिश्चित करेंगे।

अपर आयुक्त उच्च शिक्षा दीपक सिंह ने बताया कि विद्यार्थी महाविद्यालय द्वारा संचालित इन व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में से अपनी रुचि अनुसार किसी एक व्यावसायिक पाठ्यक्रम का अध्ययन कर सकता है। विभागीय वेबसाइट पर उपलब्ध पाठ्यक्रम में से स्वयं की रूचि के व्यावसायिक पाठ्यक्रम उपलब्ध न होने की स्थिति में विद्यार्थी SWAYAM पोर्टल पर उपलब्ध सामान क्रेडिट या उससे अधिक क्रेडिट के व्यावसायिक पाठ्यक्रम का अध्ययन ऑनलाइन कर सकेंगे। इसके लिए विद्यार्थी को संबंधित महाविद्यालय के सक्षम अधिकारी से लिखित अनुमति प्राप्त करनी होगी।

SWAYAM पोर्टल पर उपलब्ध पाठ्यक्रम यदि निर्धारित क्रेडिट से अधिक क्रेडिट का है तो विद्यार्थी द्वारा अर्जित अतिरिक्त क्रेडिट को ग्रेड कार्ड में दर्शाया जाएगा। परंतु अतिरिक्त क्रेडिट को सीजीपीए की गणना में सम्मिलित नहीं किया जाएगा। विभाग द्वारा विद्यार्थियों को पूर्व में चयनित मेजर, माइनर, वैकल्पिक एवं व्यावसायिक पाठ्यक्रम आदि को परिवर्तित करने का अवसर भी प्रदान किया जा रहा है। यह व्यवस्था महाविद्यालय स्तर पर पूर्णतया आंतरिक रहेगी। विद्यार्थियों द्वारा महाविद्यालय में विषय या संकाय परिवर्तन संबंधी कार्यवाही पूर्व निर्धारित नियमों के आधार पर 8 से 20 नवंबर 2021 तक पूर्ण किया जाना है।

महाविद्यालय में अध्ययनरत विद्यार्थी डिग्री कोर्स के साथ महाविद्यालय में संचालित सर्टिफिकेट/डिप्लोमा कोर्स का चयन कर सकेंगे। इन कोर्स के चयन के लिए आवेदन का प्रारूप विभाग के पोर्टल पर, नवीन निर्देश में, एमपी ऑनलाइन के पोर्टल epravesh.mponline.gov.in पर उपलब्ध होगा। साथ ही विद्यार्थी महाविद्यालय से भी आवेदन का प्रारूप प्राप्त कर सकेंगे। महाविद्यालय, पोर्टल पर सर्टिफिकेट/डिप्लोमा कोर्स की जानकारी  3 नवंबर 2021 तक अद्यतन करना सुनिश्चित करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!