भोपाल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 450 मुख्यमंत्री बाढ़ राहत आवासों का किया वर्चुएल लोकार्पण

भोपाल :-
सोमलवाड़ा में हुआ मुख्य कार्यक्रम

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ग्रामीण अधोसंरचना से गांव की बदहाली दूर कर मध्यप्रदेश की अर्थव्यवस्था को स्वावलंबी बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री चौहान शनिवार को मुख्यमंत्री बाढ़ राहत आवास योजना के तहत बुदनी और नसरुल्लागंज तहसील के 47 गांव में निर्मित्त लगभग साढ़े 400 आवासों का ग्राम सोमलवाड़ा से वर्चुअल गृह प्रवेश कराने से पूर्व ग्रामीणों को सम्बोधित कर रहे थे।सांसद रमाकांत भार्गव भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
   मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि गांव के उत्पादों और हुनर को अर्थव्यवस्था से जोड़ने के लिए महिलाओं के स्व-सहायता समूह को प्रशिक्षण देने के अलावा उन्हें बैंक से वित्तीय मदद उपलब्ध कराई जाएगी।उन्होंने कहा कि इन उत्पादों के क्लस्टर बनाकर मार्किट भी उपलब्ध करवाया जाएगा। उन्होंने कलेक्टर को निर्देश दिए कि सोमलवाड़ा सहित अन्य सभी गांव में जहाँ महिला स्वसहायता समूहों को बैंक से नही जोड़ा गया है, ऐसे सभी ग्रुप को जोड़कर उनकी ट्रेनिग भी कराए।
   मुख्यमंत्री ने बताया कि बुदनी और नसरुल्लागंज के करीब 47 गांव गत वर्ष बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए थे।इन गांवों में मुख्यमंत्री राहत आवास के तहत 626 आवासों का पुनः निर्माण करवाया गया है, जिसमें से आज करीब सवा 450 आवास में आज गृह प्रवेश करवाया जा रहा है।दर्जनों गांव  सोमलवाड़ा में हुए गृह प्रवेश कर्यक्रम से वर्चुअल रूप से जुडे। इन आवासों के लिए मुख्यमंत्री राहत के रूप में 95 हज़ार 100, मनरेगा से 17 हजार रुपये  के अलावा पशुपालक हितग्राहियों को अतिरिक्त सहायता भी दी गई थी।
 स्कूल,आंगनवाड़ी भवन एवं सड़क की स्वीकृति      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्रामीणों की मांग पर सोमालवाड़ा में स्कूल और आंगनवाड़ी के लिए नवीन भवन निर्माण के साथ ही ग्राम पंचायत नांदमेर से सोमालवाड़ा तक के 6 गांव को जोड़ने वाले मार्ग तथा पुल निर्माण को स्वीकृत करने की घोषणा भी की।
  मुख्यमंत्री ने कराया गृह प्रवेश

    मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम में रिमोट से लगभग एक दर्जन गांव में वर्चुअल गृह प्रवेश कराने के बाद सोमलखेडा गांव में मुकेश और जगदीश के घर पहुंचकर उनका विधिवत गृह प्रवेश करवाया।मुख्यमंत्री ने यहाँ परिवारजनों के साथ चाय भी पी और अन्य लाभान्वित परिवारो से संवाद भी किया।उन्होंने सोमालवाड़ा में ग्रामीणों द्वारा पुनः निर्मित किये गए आवासों के लिए ग्रामीणों की तारीफ भी की। सांसद भार्गव ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया।
  मुख्यमंत्री बाढ़ राहत आवास योजना       मुख्यमंत्री बाढ़ राहत आवास अगस्त 2020 में बुदनी विधानसभा क्षेत्र बाढ़ से ध्वस्त हुए मकानों के पुर्ननिर्माण हेतु मुख्यमंत्री  द्वारा राहत राशि एवं मनरेगा के अभिसरण से आवासों के निर्माण की घोषणा की गयी थी।
    बुदनी जनपद के 18 ग्रामों के 224 तथा नसरूल्लागंज जनपद पंचायत के 29 ग्रामों के 402 हितग्राही, इस प्रकार दोनों जनपद पंचायत अंतर्गत कुल 47 ग्रामों के 626 हितग्राहियों को बाढ़ राहत आवास स्वीकृत किये गये।
    प्रत्येक हितग्राही को 95 हजार 100 रुपये आरबीसी 6,4 से तथा मनरेगा योजना से 90 दिवस की मजदूरी 17 हजार 100 कुल 112200 रुपये प्रति हितग्राही स्वीकृत किये गये। ऐसे पशुपालक जिनके आवास बाढ़ से क्षतिग्रस्त हो गये थे, उन्हें पशुओं के प्रकार और संख्या के आधार पर केटल शेड निर्माण हेतु मनरेगा योजना से अतिरिक्त राशि स्वीकृत की गयी।
    दोनों जनपदों के 210 बाढ़ पीडित, पशु पालकों को कैटल शेड निर्माण हेतु 46 हजार रुपये से लेकर 99 हजार रुपये तक की राशि प्रदान की गयी 5 कुल 25 बकरी पालकों को 46 हजार प्रति हितग्राहीं,183 पशु पालकों को 63 हजार रुपये प्रति हितग्राही एवं 02 पशुपालकों को 99 हजार रुपये प्रति हितग्राही के मान से राशि स्वीकृत की गयी।
      आज दिनांक तक कुल स्वीकृत 626 आवासों में से 450 आवास पूर्ण चुके हैं 176 प्रगतिरत हैं। 7. सोमलवाड़ा ग्राम में 44 आवास स्वीकृत किये गये थे, इनमें से 44 आवास पूर्ण हो चुके हैं।
     सोमलवाड़ा में 40 बाढ़ पीड़ित हितग्राहियों को पशु शेड भी स्वीकृत किये गये हैं। इन सभी हितग्राहियों को 63 हजार रूपये  की राशि मनरेगा योजना से प्रदान की जायेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!